NASA करेगा ISRO की मदद, भारत बनाने जा रहा है अपना Space Station

NASA करेगा ISRO की मदद, भारत बनाने जा रहा है अपना Space Station
NASA करेगा ISRO की मदद, भारत बनाने जा रहा है अपना Space Station

NASA करेगा ISRO की मदद, भारत बनाने जा रहा है अपना Space Station: अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (NASA) ने कहा है कि अमेरिका भारत को अपना अंतरिक्ष स्टेशन बनाने में मदद करने के लिए तैयार है। नासा के प्रशासक बिल नेल्सन ने अपनी भारत यात्रा के दौरान कहा कि अमेरिका और भारत अगले साल के अंत तक एक भारतीय अंतरिक्ष यात्री को अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर भेजने की योजना बना रहे हैं।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अगले साल की पहली तिमाही में नासा के साथ संयुक्त उद्यम में अत्याधुनिक उपग्रह एनआईएसएआर लॉन्च करेगा। विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री जितेंद्र सिंह के साथ बैठक में नेल्सन ने दोनों देशों के बीच अंतरिक्ष क्षेत्र में आपसी सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की.

इस संबंध में विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है, “इसरो गगनयान के मॉड्यूल माइक्रोमेटोरॉइड और ऑर्बिटल डेब्रिस प्रोटेक्शन शील्ड्स के परीक्षण के लिए नासा के हाइपरवेलोसिटी इम्पैक्ट टेस्ट (एचवीआईटी) का उपयोग करने की संभावना पर विचार कर रहा है।”

इस मुलाकात के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की अगले साल एक भारतीय अंतरिक्ष यात्री को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर भेजने की पेशकश पर भी चर्चा हुई. नेल्सन ने संवाददाताओं से कहा, “इस अंतरिक्ष यात्री का चयन इसरो द्वारा किया जाएगा।” उन्होंने सिंह से देश के पहले अंतरिक्ष यात्री को नासा के रॉकेट से अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन भेजने की योजना में तेजी लाने का भी अनुरोध किया है.

NASA करेगा ISRO की मदद, भारत बनाने जा रहा है अपना Space Station

नासा द्वारा अगले वर्ष भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों के लिए एक निजी अंतरिक्ष यात्री मिशन की संभावना पर भी विचार किया जा रहा है। एक सवाल के जवाब में नेल्सन ने कहा कि अगर भारत चाहे तो अमेरिका अंतरिक्ष स्टेशन बनाने में मदद करने को तैयार है. उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि भारत 2040 तक एक वाणिज्यिक अंतरिक्ष स्टेशन बनाना चाहता है। अगर भारत हमारे साथ सहयोग करना चाहता है, तो हम निश्चित रूप से उपलब्ध हैं। हालांकि, यह भारत पर निर्भर करता है।”

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो से 2035 तक एक भारतीय अंतरिक्ष स्टेशन बनाने और 2040 तक चंद्रमा पर अंतरिक्ष यात्रियों को उतारने का लक्ष्य रखने को कहा है। नासा-इसरो सिंथेटिक एपर्चर रडार (NISAR) को लगभग 1.5 बिलियन डॉलर की लागत से बनाया गया है। इसे अगले साल देश के जीएसएलवी रॉकेट से लॉन्च किया जाएगा।