How to Avoid UPI Fraud : अगर आप भी UPI यूजर हैं तो NCPI की यह 5 बातें रखें याद कोई नहीं लगा पाएगा आपको चुना

How to Avoid UPI Fraud : समय के साथ जैसे-जैसे स्मार्टफोन का इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है। वैसे ही लोगों के बीच ऑनलाइन शॉपिंग और पेमेंट का चलन भी काफी बढ़ चुका है। इसी चलन के साथ जुड़े धोखाधड़ी के मामले भी बढ़ गए है। अगर आप भी यूपीआई यूजर है और ऑनलाइन पेमेंट करते हैं। तो भूल कर भी कभी ना करें एनसीपी NCPI की इन पांच बातों को अनदेखा। यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस यानी यूपीआई [UPI] का इस्तेमाल आज के समय में हर दूसरा इंसान कर रहा है।

अगर यूजर कुछ गलतियां ना करें और अपनी पेमेंट करते समय इन बातों का ध्यान रखें तो उनके साथ धोखाधड़ी होने की संभावनाएं कम हो सकती हैं। आज हम आपको इस आर्टिकल के जरिए यूपीआई कैशलेस ट्रांजेक्शन और ऑनलाइन पेमेंट के बारे में कुछ अहम बातें बताने जा रहे हैं। जो एनसीपी NCPI ने बताई है। इन बातों को आप अपनी यूपीआई पेमेंट के दौरान याद रख सकते हैं। इसके बाद आपके साथ किसी भी प्रकार का हेरा फेरी और धोखाधड़ी होने की संभावना बेहद कम हो जाएगी। यूपीआई ट्रांजैक्शन बढ़ने के साथ ही इससे जुड़ी धोखाधड़ी की घटनाएं घटनाओं में भी दिन-ब-दिन बढ़ गई है।

बीते वर्ष 2022 से लेकर 2023 में देश में यूपीआई फ्रॉड की घटनाएं लगभग 95 हजार सामने आई हैं। यह आंकड़ा रिपोर्ट के अनुसार धोखाधड़ी के शिकार हुए लोगों से आई है। वर्तमान समय में यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस यानी यूपीआई कैशलेस ट्रांजेक्शन और ऑनलाइन पेमेंट का सबसे लोकप्रिय साधन बन चुका है। कुछ मिनट में आप अपनी पेमेंट कहीं भी और कभी भी कर सकते हैं। इस ऐप के जरिए लोग लाखों करोड़ों का लेनदेन कर रहे हैं। इसी की वजह से ज्यादा से ज्यादा धोखाधड़ी भी यूपीआई से हो रही है। इन्हीं धोखाधड़ी से बचने के लिए एनपीसीआई NPCI ने फ्रॉड से बचने के लिए कुछ तरीके बताए हैं। जिन्हें आज हम आपके साथ शेयर करने जा रहे हैं। चलिए जानते हैं कौन से हैं वह पांच तरीके

यूपीआई “UPI” पिन का कैसे करें इस्तेमाल

लोगों की आज की लाइफ स्टाइल इतनी व्यस्त हो चुकी है। कि उनके पास ऑनलाइन पेमेंट करने के अलावा कोई और विकल्प नहीं रहता। ज्यादा से ज्यादा लोग ऑनलाइन पेमेंट करना पसंद करते हैं। जिससे यह घटनाए दिन-ब-दिन सामने आ रही है। ऑनलाइन धोखाधड़ी करने वाले लोग आमतौर पर यूपीआई यूजर्स के लापरवाही या फिर उनके भोलेपन का फायदा उठाते हैं। ज्यादातर लोग बैंक या किसी अन्य संस्था का प्रतिनिधि बनकर यूपीआई यूजर से निजी जानकारियां हासिल कर लेते हैं।

जिसकी वजह से उन्हें फ्रॉड का सामना करना पड़ता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बैंक कभी भी किसी भी प्रकार से कहीं से भी पेमेंट अगर आप रिसीव करते हैं तो उसे दौरान आपसे यूपीआई पिन की मांग नहीं करता है। ज्यादातर फ्रॉड आपसे इमरजेंसी का हवाला देते हुए होता है। जिससे आप उनकी बातों में आ जाते हैं। अक्सर पेमेंट भेजने की बात कहते हैं तो आपसे पिन PIN की डिमांड की जाती है।

उनकी बातों में और पेमेंट के लालच में आकर अगर आप अपना पिन उन्हें बता देते हैं तो उसी समय आपके बैंक से आपकी जीवन की पूंजी , मेहनत की कमाई उड़ा लेते हैं। इसलिए कभी भी आपको पैसे कहीं से भी रिसीव करने के लिए यूपीआई पिन की कोई मांग करता है। तो आपको इस मांग को ध्यान में रखते हुए कभी भी अपना पिन दूसरे के साथ शेयर नहीं करना चाहिए।

हमेशा रिसीवर को करें वेरीफाई

दूसरी बात जो एनसीपी NCPI यूपीआई UPI ग्राहकों को बताती है। वह यह है कि कभी भी आपको पेमेंट करनी हो तो उससे पहले आप गूगल पर यूपीआई आईडी की अच्छे से जानकारी ले। आप देख लें कि आप जिसे पेमेंट कर रहे हैं। वह सामने वाला व्यक्ति वही है या कोई और है। इससे भी आप धोखाधड़ी से बच सकते हैं। ज्यादातर सोशल मीडिया या ओपन वेब सोर्स पर शेयर किए गए नंबरों पर पेमेंट करते हुए लोगों के साथ बेहद धोखाधड़ी होती है। इसलिए ऑनलाइन शॉपिंग करते हुए आपको पेमेंट करने से पहले 10 बार सोचना चाहिए और उनसे पेमेंट से जुड़ी हुई हर एक जरूरी जानकारी के बारे में छानबीन कर लेनी चाहिए।

पेमेंट करने के लिए क्‍यूआर कोड करें इस्तेमाल

हम मार्केट में किसी शॉप से या माल से शॉपिंग करते हैं। तो वहां क्‍यूआर कोड स्कैनर देखने को मिलते हैं। इससे यह बात जाहिर होती है कि क्‍यूआर कोड स्कैनर हमेशा पेमेंट करने के लिए इस्तेमाल होते हैं। पेमेंट लेने के लिए कभी भी क्‍यूआर कोड का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। अगर आपसे कभी कोई पेमेंट रिसीव करने के लिए आपसे कर कोड स्कैन करने के लिए बोले तो आप ऐसा ना करें। इससे आप अपने मेहनत की कमाई को बचा सकते हैं।

ना करें अनावश्यक एप्स डाउनलोड

अपने फोन में कभी भी अनावश्यक ऐप्स डाउनलोड ना करें। जो भी फोन में एप्प्स डाउनलोड करते हैं उसे आधिकारिक एप स्टोर से ही डाउनलोड करें। अक्सर फोन में हमारे पास पेमेंट से रिलेटेड या किसी भी एप्प के लिए लिंक आते रहते हैं। जिस पर एक क्लिक कर देने से ही हम अपने बैंक में जमा की हुई राशि गवां सकते हैं। इसलिए कभी भी अज्ञात व्यक्तियों द्वारा भेजे गए लिंक या स्क्रीन शेयर ना करें।

कभी ना करें स्पैम अलर्ट को अनदेखा

ऑनलाइन ट्रांजैक्शन पेमेंट यूपीआई एप्लीकेशन में स्पैम फिल्टर होता है। वह ऐसे पेमेंट रिक्वेस्ट को ट्रैक करता है। जो बार-बार अगर आपके पास कभी ऐसी स्पैम आईडी से पेमेंट रिक्वेस्ट आती है। तो यूपीआई एप्लीकेशन आपको चेतावनी देता है। यह चेतावनी यूजर्स के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है। अगर आप इसे नजर अंदाज नहीं करेंगे तो अपने साथ होने वाली धोखाधड़ी से बच सकेंगे।