अगर एलपीजी सिलेंडर से हो जाए हादसा तो कितना मिलता है बीमा, यहां जाने संपूर्ण जानकारी

इन दोनों तो केंद्र की सरकार में एलपीजी सिलेंडर की कीमतों में गिरावट को लेकर काफी मंथन चल रहा है ऐसे में सूत्रों से मिली हुई जानकारी के अनुसार लोकसभा चुनाव से पहले ही एलपीजी सिलेंडर के दाम में गिरावट की जा सकती है जो एक बड़ी सौगात जैसी होगी। वर्तमान में सरकार की ओर से एलपीजी सिलेंडर के भाव में काफी काम चल रहे हैं क्योंकि सरकार ने हाल ही में सब्सिडी में बढ़ोतरी की थी इसके बाद से लोग सस्ते एलपीजी सिलेंडर भी खरीद रहे हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि सिलेंडर के उपभोक्ताओं को कई और भी सुविधा दी जाती है जिनका शायद आप लोगों को मालूम हो अगर नहीं मालूम है तो चलिए हम बता देते हैं-

गैस उपभोक्ताओं को मिलती है यह सुविधा

तेल वितरण कंपनियों के अनुसार सभी गैस सिलेंडर ग्राहकों को बीमा कवर भी दिया जाता है वहीं एलपीजी सिलेंडर में आग लग जाने की स्थिति में यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो प्रति व्यक्ति को ₹6 लाख का व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा कवर का लाभ भी दिया जाता है. वहीं दो लाख रुपए प्रति व्यक्ति अधिकतम के साथ घटना के लिए 30 लख रुपए का चिकित्सा खर्च को कर भी किया जाता है.

ऐसे में संपत्ति के नुकसान या फिर घटना पर ₹200000 का बीमा कवर भी किया जाता है यह सभी लाभ लेने के लिए कुछ नियमों का पालन करना भी अनिवार्य होता है उपभोक्ता के साथ गैस सिलेंडर से किसी भी प्रकार की घटना अगर हो जाती है तो मामले में ग्राहक संबंध तेल विपणन कंपनी के डिस्ट्रीब्यूटर को सूचित करने की आवश्यकता होती है. जब डिस्ट्रीब्यूटर से जानकारी मिलने के बाद विपणन कंपनियों का कार्यालय बीमा कंपनी को सूचित किया जाता है वही कंपनी बीमा पॉलिसी के प्रावधानों के अनुसार ही इसका निपटारा करने का फैसला लेती है.

अब कितने रुपए में आ रहा है सब्सिडी वाला सिलेंडर

केंद्र की सरकार के द्वारा भारी गिरावट करने के बाद देश की राजधानी दिल्ली में एलपीजी सिलेंडर की कीमत 903 रुपए दर्ज की जा रही है वहीं दूसरी ओर उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों को एलपीजी सिलेंडर अब कल 603 रुपए का मिल रहा है इसकी वजह तो यह है कि सरकार ने इस योजना से जुड़े हुए लोगों को ₹300 की सब्सिडी दे रही है इसे ग्राहकों के चेहरे पर काफी खुशी बनी हुई है.

About NewsDesk RR 169 Articles
7 साल से मीडिया क्षेत्र से वेबसाइट को अपने कार्यों से योगदान दे रही हैं। जिसमें इन्होंने (क्राइम, देश-विदेश, शिक्षा,लाइफस्टाइल,मनोरंजन,गैजेट्स इत्यादि) बीट पर काम कर रही हैं। इनके लेख को राजस्थान पाठशाला वेबसाइट पाठकों ने काफी पसंद भी किया। इन्होंने 2 साल तक राजस्थान पत्रिका को अपनी सेवा प्रदान की। तत्पश्चात इनका सफर 2018 में इंडिया डॉट कॉम की तरफ बढ़ चला। फिर इनका सफर आगे बढ़ा 2021 की तरफ, जहां इन्होंने न्यूज 24 डिजिटल प्लेटफॉर्म के साथ काम शुरू किया। अब राजस्थान पाठशाला वेबसाइट को योगदान दे रहे हैं।