[PDF] Hanuman Chalisa pdf In Hindi |श्री हनुमान चालीसा

Hanuman Chalisa pdf in hindi 

Hanuman chalisa hindi lyrics | Hanuman Chalisa pdf | Hanuman Chalisa Pdf In hindi | Hanuman Chalisa Pdf In english | Hanuman Chalisa Pdf Download | हनुमान चालीसा Pdf । यह भी पढे – भगवद गीता

Hanuman Chalisa Pdf महत्वपूर्ण जानकारी

Hanuman Chalisa pdf हिंदी भाषा में एक भक्ति भजन है, जो भगवान Hanuman को समर्पित है। इसमें Hanuman की महानता और शक्तियों की प्रशंसा करते हुए 40 छंद हैं। भजन हिंदुओं द्वारा व्यापक रूप से पढ़ा जाता है, खासकर hanuman जयंती के शुभ अवसर के दौरान। ऐसा माना जाता है कि जो लोग भक्ति के साथ इसका पाठ करते हैं, उनके लिए शांति, समृद्धि और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

hanuman chalisa, hanuman chalisa pdf in hindi, हनुमान चालीसा पीडीएफ़।
Hanuman Chalisa Pdf

दोहा : 

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।

बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।। 

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।

बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।। 

चौपाई :

 जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।

जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

रामदूत अतुलित बल धामा।

अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी।

कुमति निवार सुमति के संगी।।

कंचन बरन बिराज सुबेसा।

कानन कुंडल कुंचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।

कांधे मूंज जनेऊ साजै।

संकर सुवन केसरीनंदन।

तेज प्रताप महा जग बन्दन।।

विद्यावान गुनी अति चातुर।

राम काज करिबे को आतुर।।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।

राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।

बिकट रूप धरि लंक जरावा।।

भीम रूप धरि असुर संहारे।

रामचंद्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये।

श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।

तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।

अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।

नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।

कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।

राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।

लंकेस्वर भए सब जग जाना।।

जुग सहस्र जोजन पर भानू।

लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।

जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।

दुर्गम काज जगत के जेते।

सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे।

होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।

तुम रक्षक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै।

तीनों लोक हांक तें कांपै।।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।

महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरै सब पीरा।

जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

संकट तें हनुमान छुड़ावै।

मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

सब पर राम तपस्वी राजा।

तिन के काज सकल तुम साजा।

और मनोरथ जो कोई लावै।

सोइ अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा।

है परसिद्ध जगत उजियारा।।

साधु-संत के तुम रखवारे।

असुर निकंदन राम दुलारे।।

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।

अस बर दीन जानकी माता।।

राम रसायन तुम्हरे पासा।

सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुम्हरे भजन राम को पावै।

जनम-जनम के दुख बिसरावै।।

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।

जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई।

हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।

संकट कटै मिटै सब पीरा।

जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जै जै जै हनुमान गोसाईं।

कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।

जो सत बार पाठ कर कोई।

छूटहि बंदि महा सुख होई।।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा

होय सिद्धि साखी गौरीसा।।

तुलसीदास सदा हरि चेरा।

कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।। 

दोहा :

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।

राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।। Hanuman Chalisa Pdf

Hanuman Chalisa Pdf Details

Hanuman chalisa pdf से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी नीचे दी गई है साथ ही यहा से आप Hanuman Chalisa pdf को डाउनलोड भी कर सकते है।

नाम Hanuman Chalisa Pdf
भाषा हिन्दी
गुणवता उच्च
आकार 1 MB
प्रष्ठ 15
Hanuman Chalisa pdfDownload

Hanuman Chalisa का पाठ करने का तरीका 

Hanuman Chalisa का पाठ धार्मिक तौर पर हिन्दू धर्म में प्रचलित तरीके से किया जाता है। इसका पाठ अधिकतर व्यक्तिगत तौर पर किया जाता है, लेकिन कुछ लोगों को ग्रुप में भी पाठ करने में रुचि होती है।

  1. स्वच्छता: पाठ करने से पहले अपने शरीर और मन को स्वच्छ करें।
  2. स्थान: शांति और स्वस्थ वातावरण में पाठ करें। Hanuman Chalisa Pdf
  3. स्वरूप: Hanuman Chalisa pdf को पूर्ण स्वरूप में पाठ करें।
  4. ध्यान: ध्यान और श्रद्धा से पाठ करें।
  5. अनुवाद: जो भी अनुवाद पढ़ना चाहते हैं, उसे पढ़ें।
  6. आराधना: Hanuman Chalisa pdf पाठ के अंत में भगवान hanuman की पूजा या आराधना करे

Hanuman Chalisa का पाठ करने के फायदे 

Hanuman Chalisa के पाठ से निम्नलिखित फायदे हैं:

  1. मनोबल: पाठ से मन को शांति और शक्ति मिलती है।
  2. तंगी दूर: पाठ से मन की तंगीयां दूर होती हैं।
  3. सुख: पाठ से सुख और शांति मन में प्राप्त होती है।
  4. बुद्धि: पाठ से बुद्धि और समझ बढ़ती है।
  5. पुण्य: पाठ करने से पुण्य की पुण्यतिथि मिलती है।
  6. श्रद्धा: पाठ से धर्म और भगवती श्रद्धा में वृद्धि होती है। Hanuman Chalisa Pdf

Hanuman Chalisa की अनोखी बाते। 

  1. माना जाता है कि Hanuman Chalisa pdf का पाठ भक्त को आशीर्वाद, शक्ति और मन की शांति प्रदान करता है।
  2. Hanuman Chalisa pdf का प्रत्येक छंद एक गहरा आध्यात्मिक अर्थ रखता है और भगवान Hanuman के प्रति समर्पण और समर्पण को व्यक्त करता है।
  3. Hanuman Chalisa को भक्त को नकारात्मक ऊर्जा से बचाने और उन्हें सकारात्मकता की ढाल प्रदान करने के लिए कहा जाता है।
  4. माना जाता है कि Hanuman Chalisa का नियमित पाठ करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं और जीवन में बाधाएं दूर होती हैं।
  5. Hanuman Chalisa को सौभाग्य, सफलता और समृद्धि लाने वाला भी माना जाता है।
  6. ऐसा माना जाता है कि Hnauman की मूर्ति या चित्र के सामने Hanuman Chalisa का पाठ करना विशेष रूप से शक्तिशाली होता है।

Hanuman Chalisa के पाठ के लिए आवश्यक सामग्री 

Hanuman Chalisa का पाठ करने के लिए आमतौर पर निम्नलिखित वस्तुओं की आवश्यकता होती है:

  1. बैठने और Hanuman Chalisa पढ़ने के लिए एक साफ और शांत जगह।
  2. भगवान Hanuman की तस्वीर या मूर्ति।
  3. सस्वर पाठ की संख्या गिनने के लिए एक माला या माला।
  4. भक्ति से ओतप्रोत माहौल, विकर्षणों से मुक्त।
  5. भगवान Hnuman के प्रति एक सम्मानजनक और भक्तिपूर्ण रवैया।
  6. वैकल्पिक: प्रसाद जैसे फूल, फल, धूप और एक दीपक। Hanuman Chalisa Pdf

Hanuman Chalisa के पाठ करने का समय 

Hanuman Chalisa का पाठ करने के लिए कोई विशेष समय या दिन अनुशंसित नहीं है, लेकिन परंपरागत रूप से मंगलवार या शनिवार को इसका पाठ किया जाता है, जो भगवान हनुमान को समर्पित शुभ दिन माने जाते हैं।

हालाँकि, कोई भी दिन में किसी भी समय Hanuman Chalisa का पाठ कर सकता है, बशर्ते वह ध्यान केंद्रित करने में सक्षम हो और भक्तिपूर्ण मानसिकता रखता हो। कुछ लोग इसे सुबह पढ़ना पसंद करते हैं तो कुछ लोग रात को सोने से पहले इसका पाठ करना पसंद करते हैं। यह व्यक्ति की व्यक्तिगत पसंद और साधना पर निर्भर करता है। Hanuman Chalisa Pdf

Hanuman Chalisa pdf lyrics in English

Shri Guru Charan Saroj Raj,

After cleansing the mirror of my mind

With the pollen of sacred flowers,

I adore the Fortunate One.

Jai Hanuman, gyaan gun saagar,

Jai Kapis tihu lok ujaagar,

Ram doot atulit bal dhama,

Anjani putra, Pavan sut nama.

Bajrang Bali, decked with the moon,

And adorned with the Patka, flags and canopy,

Respected by all, and the remover of obstacles,

Is the son of Anjana and the wind god.

His deeds are modest, and his nature peaceful,

And he is the protector of saints,

With his luster, he dispels the darkness of ignorance,

And bestows upon us the supreme wisdom.

Oh Hanuman, the ocean of knowledge and virtue,

Oh the enlightener of the three worlds,

The devotee of Rama, the messenger of peace,

I sing thy glorious praises, O son of Anjana!

With a body as hard as a thunderbolt,

And possessing great bravery and strength,

You destroyed the demons of Lanka,

And burnt it down to ashes, O Hanuman!

You brought the mountain with the medicinal herbs,

To save the life of Lakshmana,

With your heroic deeds, you became renowned,

And received the blessings of all the gods.

Oh Hanuman, who can match your greatness,

In the three worlds, there is none to equal you,

You are the counselor of Dasaratha,

And the messenger of Rama’s orders.

With a mind as pure as crystal,

And a heart full of devotion,

You constantly sing the praises of Rama,

And meditate upon his holy name.

Oh Hanuman, the embodiment of devotion,

You bestow upon us strength, wisdom and peace,

In this Kali Yuga, you are our savior,

And guide us on the path of righteousness.

In your every birth, you serve as an example,

Of what it means to be a true devotee,

And in this world and the next,

You will forever be remembered and revered.

Oh Hanuman, I take refuge in you,

And with folded hands, I pray to you,

Please grant me your blessings, O son of Anjana,

And remove the obstacles from my life.

This Hanuman Chalisa, I have recited,

With a mind full of devotion and love,

Oh Hanuman, the son of the wind god,

Please bestow upon me your grace, O Lord! Hanuman Chalisa Pdf

Hanuman Chalisa Pdf का पाठ कब नहीं करना चाहिए ?

Hanuman Chalisa Pdf को किसी भी समय पाठ किया जा सकता है, लेकिन कुछ स्थितियां हैं जब इसे पढ़ने से बचना चाहिए।

यदि कोई व्यक्ति शारीरिक रूप से अस्थिर होता है जैसे कि खून की कमी या निश्चलता, तो उन्हें Hanuman Chalisa का पाठ नहीं करना चाहिए।

इसके अलावा, Hanuman Chalisa का पाठ न करें जब आप शौच कर रहे हों या जब आपकी मनसिक तनाव हो।

अधिकतर स्थितियों में, हनुमान चालीसा को किसी भी समय पढ़ा जा सकता है। यह आपके मन को शांत करने, आशा को बढ़ाने और शक्ति को प्राप्त करने में मदद कर सकता है।

Hanuman Chalisa Pdf In Tamil

ஹனுமான் சாலிசா தமிழில் இங்கு உள்ளது:

சிராத்தாள் பரிசா சுரா பர்ம தல வானாரா । ரம்யாகாபி ரவி குமார கோதி ப்பிஷ்ட வர்த்தனா ।। அரிஷ்ட நவ நவ த்வான ஞா காஷா கார வாஸனா । விஷால லோசன விராஜ ஸுந்தர முகராநனா ।।

குஜ ஸ்ஹாரி ஸுஷைந்ய பாக்ஷி ராவண க்ஷ மாரிசனா । லங்காதீப ஹரி தஷ்ட மந்த்ர ஜ்ஞா கார குரு பிதனா ।। பவன தான தனய ஸங்கடான மூல நிவாரனா । ரக்ஷ காரி குன்த ரூப த தூதனா ।। Hanuman Chalisa Pdf

மஹாவீர விக்ரம ஜய குமார வானர வீரா । ஸுமதுர வானி ஸுமான குமார உக்ராரத பிஞ்சனா ।। ஹனு மத்வீர வர தாய ஜய ஜய ஸராங்கபாணி । காபில ப்ரம்ஹ முனி சாரஸ வதி தே ஜய ஹனுமான் ஜ்ஞானக ப்ரகாச ஸ்வாமிகள் ஜய ஹனு

Hanuman Chalisa Pdf In Telugu

Here is the Hanuman Chalisa in Telugu:

శ్రీ గురు చరణ సరోజ రజ్ నిజమన ముకుర సుధారి । బరనఉం రఘుబర బిమల జసు జో దాయకు ఫల చారి ।।

బుద్ధిహీన తను జానికే సుమిరౌం పవనకుమార । బల బుద్ధి విద్యా దేహు మోహిం హరహు కలేశ వికార ।।

జయ హనుమాన్ జ్ఞాన గుణ సాగర । జయ కపీశ తిహుం లోక ఉజాగర ।।

రామదూత అతులిత బల ధామా । అంజని పుత్ర పవనసుత నామా ।।

మహావీర విక్రమ బజరంగీ । కుమతి నివార సుమతి కే సంగీ ।।

కంచన బరన బిరాజ సుబేసా । కానన కుండల కుంచిత కేసా ।।

హాథ వజ్ర ఔ ధ్వజా విరాజై । కాంపు కంపిత అతి దరాజా జయ హనుమాన్ జ్ఞాన గుణ సాగర

Hanuman Chalisa In Kannada

ಕನ್ನಡದಲ್ಲಿ ಹನುಮಾನ್ ಚಾಲೀಸಾ:

ಶ್ರೀ ಗುರು ಚರಣ ಸರೋಜ ರಜ ನಿಜಮನು ಮುಕುರ ಸುಧಾರಿ ಬರನಉಂ ರಘುಬರ ಬಿಮಲ ಜಸು ಜೋ ದಾಯಕು ಫಲ ಚಾರಿ।।

ಬುದ್ಧಿಹೀನ ತನು ಜಾನಿಕೆ ಸುಮಿರೌಂ ಪವನಕುಮಾರ ಬಲ ಬುದ್ಧಿ ವಿದ್ಯಾ ದೇಹು ಮೋಹಿಂ ಹರಹು ಕಲೇಶ ವಿಕಾರ।।

ಜಯ ಹನುಮಾನ್ ಜ್ಞಾನ ಗುಣ ಸಾಗರ। ಜಯ ಕಪೀಶ ತಿಹುಂ ಲೋಕ ಉಜಾಗರ।।

ರಾಮದೂತ ಅತುಲಿತ ಬಲ ಧಾಮಾ। ಅಂಜನಿ ಪುತ್ರ ಪವನ ಸುತ ನಾಮಾ।।

ಮಹಾವೀರ ವಿಕ್ರಮ ಬಜ್ರಂಗೀ। ಕುಮತಿ ನಿವಾರ ಸುಮತಿ ಕೇಂಗೀ।।

ಕಂಚನ ಬರನ ಬೀರಾಜ ಸುಬೇಗಾ। ಕಾನನ ಕುಂಡಲ ಕುಂಚಿತ ಕೇಸಾ।।Hanuman Chalisa Pdf

ಹಾಥ ವಜ್ರ ಔ ಧ್ವಜಾ ವಿರಾಜೈ। ಕಾಂಪು ಕಂಪಿತ ಅತಿ ದರಾಜಾ ಜಯ ಹನುಮಾನ್ ಜ್ಞ

hanuman chalisa भगवान हनुमान के भक्तों के बीच एक लोकप्रिय भक्ति गीत है। यह भजन भगवान हनुमान को समर्पित है, जिन्हें भक्ति, शक्ति और साहस का परम प्रतीक माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि भक्ति के साथ हनुमान चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति सफलता प्राप्त कर सकता है और जीवन की सभी बाधाओं को दूर कर सकता है। इस लेख में, हम हनुमान चालीसा के महत्व, प्रत्येक छंद के अर्थ और इस शक्तिशाली स्तोत्र के पाठ के लाभों के बारे में जानेंगे।

hanuman chalisa में 40 छंद होते हैं, जिनमें से प्रत्येक में 4 पंक्तियाँ होती हैं। भजन की रचना महान कवि तुलसीदास ने 16वीं शताब्दी में की थी, जो भगवान राम और हनुमान के भक्त थे। hanuman chalisa अवधी भाषा में लिखी गई है, जो उस समय भारत के उत्तरी क्षेत्रों में व्यापक रूप से बोली जाती थी। भजन विभिन्न भाषाओं जैसे हिंदी, मराठी, तेलुगु, तमिल और गुजराती में गाया जाता है।

hanuman chalisa की शुरुआत भगवान हनुमान के आह्वान के साथ होती है, जो उनका आशीर्वाद और सुरक्षा मांगते हैं। भजन का पहला श्लोक इस प्रकार है:

“श्री गुरु चरण सरोज राज, निज मनु मुकुर सुधरी,
बरनौ रघुवर बिमल जासु, जो दयाकु फल चारी”

यह श्लोक भगवान हनुमान की सुंदरता का वर्णन करता है, जो अपने गुरु के चरण कमलों से सुशोभित हैं। छंद भगवान राम के दिव्य गुणों का भी वर्णन करता है और उनका आशीर्वाद मांगता है। हनुमान चालीसा का पहला छंद सबसे शक्तिशाली माना जाता है और भजन शुरू करने से पहले भक्तों द्वारा इसका पाठ किया जाता है।

hanuman chalisa का दूसरा श्लोक भगवान हनुमान की महानता और भगवान राम के प्रति उनकी भक्ति के बारे में बात करता है। यह इस प्रकार है:

“बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरोव पवन कुमार,
बाल बुद्धि विद्या देहु मोहि, हरहु कलेश विकार”

यह श्लोक भगवान हनुमान की भक्ति के महत्व पर प्रकाश डालता है, जो शक्ति, ज्ञान और ज्ञान के प्रतीक हैं। श्लोक इस बात पर जोर देता है कि भगवान हनुमान के आशीर्वाद का आह्वान करके, सभी बाधाओं को दूर किया जा सकता है और जीवन में सफलता प्राप्त की जा सकती है।

hanuman chalisa के तीसरे श्लोक में भगवान हनुमान के भौतिक रूप और उनकी दिव्य शक्तियों का वर्णन है। यह इस प्रकार है:

“जय हनुमान ज्ञान गुण सागर,
जय कपीस तिहुँ लोक उजागर”

यह श्लोक भगवान हनुमान को ज्ञान और गुणों के सागर के रूप में वर्णित करता है, जिनकी तीनों लोकों द्वारा पूजा की जाती है। यह पद भगवान हनुमान की दिव्य शक्तियों और किसी भी चुनौती को पार करने की उनकी क्षमता के बारे में भी बात करता है।

hanuman chalisa का चौथा श्लोक भगवान राम के लिए भगवान हनुमान की भक्ति और महाकाव्य रामायण में उनकी भूमिका के बारे में बात करता है। यह इस प्रकार है:

“रामदूत अतुलित बल धाम,
अंजनी पुत्र पवन सुत नामा”

यह श्लोक भगवान हनुमान को भगवान राम के दूत के रूप में वर्णित करता है, जो अपार शक्ति और ज्ञान से संपन्न हैं। यह छंद अंजनी और पवन देवता, पवन के पुत्र के रूप में भगवान हनुमान के दिव्य जन्म पर भी प्रकाश डालता है।

hanuman chalisa के पांचवें श्लोक में भगवान हनुमान के दिव्य गुणों और सभी भय और चिंताओं को दूर करने की उनकी क्षमता का वर्णन किया गया है। यह इस प्रकार है:

“महावीर विक्रम बजरंगी,
कुमति निवार सुमति के संगी”

यह श्लोक भगवान हनुमान को एक निडर योद्धा के रूप में वर्णित करता है जिसके पास अपार शक्ति और साहस है। यह छंद भगवान हनुमान की सभी नकारात्मक विचारों को दूर करने और सकारात्मक सोच और ज्ञान को बढ़ावा देने की क्षमता पर भी प्रकाश डालता है।

निष्कर्ष:

आज की इस पोस्ट के माध्यम से हमारी टीम ने hanuman chalisa pdf को डाउनलोड करने के लिए pdf उपलबद्ध करवाई है। हमे आशा है आपकी खोज इस पोस्ट ने पूरी कर दी होगी। धन्यवाद ।

हनुमान चालीसा किसने लिखी ?

हनुमान चालीसा स्वामी तुलसीदास ने लिखी

Hanuman Chalisa pdf Download Kaise Kare?

Hanuman Chalisa pdf डाउनलोड करने का पूरा परोकीस उपेर दिया गया है।

2 thoughts on “[PDF] Hanuman Chalisa pdf In Hindi |श्री हनुमान चालीसा”

Leave a Comment