Earth hole Facts: अगर पृथ्वी में छेदकर हो सकते है आर-पार? यदि ऐसा हुआ तो क्या होगा ?

Earth hole Facts: धरती गोल है। यदि पृथ्वी के बीचो बीच छेद किया जाए तो क्या होगा? आज के इस आर्टिकल हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे है। आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे की यदि धरती के बीचों बीच छेद करके हम गए तो क्या हो सकता है? तो चलिए जानते है क्या है इसके पीछे का विज्ञान?

क्या हम कर सकते हैं पृथ्वी के आर-पार छेद

पृथ्वी का तापमान काफी ज्यादा है। पृथ्वी के बीचों-बीच छेद करना असंभव है। क्युकी पृथ्वी का तापमान काफी ज्यादा है यदि कोई ऐसा करने की भी सोचे तो वह कामयाब नहीं हो पायेगा। क्युकी पृथ्वी के भीतर का तापमान काफी ज्यादा होता है। यह किसी भी धातु को पिघला सकता है। चीन जैसे देशों ने ऐसा करने का सोचा भी था। वह पृथ्वी में ड्रिल कर 145 मिलियन साल पुरानी चट्टानों तक पहुंचना चाहता है। मगर वह 7 मिल तक ही ड्रिल कर पाई।

जैसा की आपको पता है की पृथ्वी में पांच लेयर होते है। पृथ्वी के आर-पार छेद करने के लिए आपको पृथ्वी के पाँचों लेयर को पार करना होगा। आपको जानकार आश्चर्य होगा की ऐसा करने के लिए हमें करीब 4 हजार माइल्स छेद करना होगा। चीन जैसे देश ने ऐसा करने की कोशिश की थी मगर वे केवल 7 माइल्स की दुरी ही तय कर पाएं हैं। ऐसे में पृथ्वी के पहले लेयर को पार करना भी असंभव लग रहा है।

Earth hole Facts: जानिए क्या होगा?

यदि किसी तरह छेद हो भी गया तो भी कोई वस्तु या व्यक्ति इसके आर-पार नहीं जा पायेगा। पृथ्वी के आर-पार जाने में 42 मिनट का समय लगेगा। मगर कोई भी व्यक्ति या वस्तु इसके बाहर नहीं जा पाएंगे। क्युकी पृथ्वी के सेंटर पर गुरुत्वाकर्षण उसे तेजी से अपनी ओर खीचेगा। ऐसी तरह जब वो केंद्र से आगे बढ़ेगा तो यही प्रक्रिया विपरीत दिशा में होगी। वहीं दबाव और अत्यधिक तापमान से व्यक्ति की मौत हो जाएगी।

About NewsDesk RR 169 Articles
7 साल से मीडिया क्षेत्र से वेबसाइट को अपने कार्यों से योगदान दे रही हैं। जिसमें इन्होंने (क्राइम, देश-विदेश, शिक्षा,लाइफस्टाइल,मनोरंजन,गैजेट्स इत्यादि) बीट पर काम कर रही हैं। इनके लेख को राजस्थान पाठशाला वेबसाइट पाठकों ने काफी पसंद भी किया। इन्होंने 2 साल तक राजस्थान पत्रिका को अपनी सेवा प्रदान की। तत्पश्चात इनका सफर 2018 में इंडिया डॉट कॉम की तरफ बढ़ चला। फिर इनका सफर आगे बढ़ा 2021 की तरफ, जहां इन्होंने न्यूज 24 डिजिटल प्लेटफॉर्म के साथ काम शुरू किया। अब राजस्थान पाठशाला वेबसाइट को योगदान दे रहे हैं।