Chinese Atomic Battery : Chinese company ने बनाई Atomic Battery ,सिक्के से भी कम साइज की ये बैटरी बिना चार्ज किए 50 साल तक देगी पावर पढ़े पूरी खबर

Chinese Atomic Battery : चीन से एक जबरदस्त खबर भारत में वायरल हो रही है। जिसमें बताया जा रहा है कि चीन के एक स्टार्टअप कंपनी ने एटॉमिक पावर “Atomic” वाली Battery बनाई है। इस कंपनी का दावा है कि यह बैटरी बिना चार्जिंग और मेंटेनेंस के 50 साल तक पावर देगी। इस खबर के बाद हर कोई चीन के एक स्टार्टअप कंपनी द्वारा बनाए जा रहे। इस एटॉमिक पावर वाले बैटरी के बारे में जानने का इच्छुक हुआ है। आज हम आपको इसी बैटरी के बारे में बताने जा रहे हैं।

जिसे लेकर कंपनी ने बड़े-बड़े दावें किए हैं। कंपनी का कहना है कि उन्होंने ऐसी बैटरी बनाई है जिसे 50 साल तक किसी मेंटेनेंस की आवश्यकता नहीं पड़ने वाली। इस बैटरी का साइज महज एक सिक्के के बराबर है। रिपोर्ट के अनुसार बीजिंग के बीटावोल्ट स्टार्टअप इस मॉड्यूल में 63 आइसोटोप को कंप्रेस करने में कामयाब रहा है। जो एक सिक्के से भी छोटे साइज का है।

कंपनी इस बात का दावा भी कर रही है। कि यह एटॉमिक एनर्जी को सबसे छोटा रूप देने वाली पहली बैटरी को मार्केट में लॉन्च किया है। साथ ही में इसके सुरक्षा से जुड़े हुए कई दावे भी कंपनी कर रही है। जिसमें उनका दावा है बैटरी में ना तो कभी आग लगेगी ना ही इस पर दबाव पढ़ने से विस्फोट होगा।

कंपनी ऐसा दावा इसलिए कर रही है कि उन्होंने इस बैटरी को मार्केट में लॉन्च करने से पहले अलग-अलग तापमान पर इसका परीक्षण किया गया है। नेक्स्ट जेनरेशन बैटरी फिलहाल टेस्टिंग फेस में है। जल्द ही कंपनी मोबाइल फोन और ड्रोन जैसे इक्विपमेंट्स के लिए बड़े पैमाने पर इस बैटरी का प्रोडक्शन करेगी। चीन ने अपने तकनीकी उन्नति और ऊर्जा स्वावलंबन की दिशा में एक बड़ा कदम उठाते हुए परमाणु शक्ति बैटरी का निर्माण किया है, जिससे नए ऊर्जा स्रोतों की दिशा में एक नई क्रांति की ओर कदम बढ़ाया गया है।

Chinese Atomic Batterie की विशेषताएं

परमाणु ऊर्जा का उपयोग:
Chinese Atomic Battery नई प्रौद्योगिकी परमाणु ऊर्जा को बैटरी रूप में उपयोग करके ऊर्जा संग्रहण को एक नए स्तर पर ले जा रही है। इस बैटरी की क्षमता और ऊर्जा साकार करने की योजना ने ऊर्जा संबंधित चुनौतियों को मिटाने में मदद की है। यह बैटरी आइसोटोप से निकलने वाली एनर्जी को इलेक्ट्रिसिटी में बदलने का काम करती है। यह बैटरी आइसोटोप से निकलने वाली एनर्जी को इलेक्ट्रिसिटी में बदलने का काम करती है। पहली बार इस प्रक्रिया को 20वीं सदी में विकसित किया गया था।

ऊर्जा स्वावलंबन:
यह Chinese Atomic Battery चीन को अद्वितीय ऊर्जा स्वावलंबन की दिशा में बढ़ते कदमों का साकार करता है। यह ऊर्जा समस्याओं का समाधान प्रदान करके चीन को आत्मनिर्भर बनाने की क्षमता में वृद्धि करेगा। ये बैटरी खासतौर पर AI की दुनिया में क्रांति लाने का काम करेगी। इस बैट्ररी की क्षमता के कारण स्मॉल ड्रोन और माइक्रो रोबोट जैसे कई इक्विपमेंट्स में लंबे समय तक पावर सप्लाई कर सकती हैं।

पर्यावरण का समर्थन:
इस नए प्रौद्योगिकी का उपयोग करके, चीन विश्व स्तर पर पर्यावरण के प्रति अपने कर्तव्यों का पालन कर रहा है। यह शक्ति स्रोत जल, वायु, और भूतल के साथ मिलकर एक सांत्वना दाता है और जलवायु परिवर्तन के साथ मिलकर लड़ने की क्षमता प्रदान करता है।

नई ऊर्जा की दिशा:
यह नई प्रौद्योगिकी चीन को ऊर्जा समस्याओं को हल करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम प्रदान कर रही है। इससे चीन अपनी ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम हो रहा है और यह भी अन्य देशों को एक प्रेरणा स्रोत प्रदान कर रहा है। बैटरी का डायमेंशन 15x15x5 mm है।

बीटावोल्ट का कहना है कि यह पहली न्यूक्लियर बैटरी है, जो 100 माइक्रोवॉट की पावर जनरेट करती है। यह बैटरी -60C से 120 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान में काम कर सकती है। चीन द्वारा निर्मित परमाणु शक्ति बैटरी ने ऊर्जा के क्षेत्र में एक नया दिन डाला है। यह नई प्रौद्योगिकी चीन को विश्व के ऊर्जा सेक्टर में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी बना रही है, और इसका उपयोग आने वाले समय में आगे बढ़ाने में मदद करेगा।